NGO Full Form – Ngo क्या है ? खुद का NGO कैसे खोले ?

तो आज के इस पोस्ट में हम जानेगे की NGO क्या है ? NGO full form तथा NGO कितने प्रकार के होते है और अगर आप अपना खुद का NGO कैसे खोले व  शुरुआत  करने में किन किन चीज़ो  आवश्यकता पड़ती है तो अगर आप जानना चाहते है तो सभी चीज़े इस पोस्ट  बताई गयी है |  तो अगर आप NGO में अच्छे से समझना चाहते है तो इस post को पूरा read करे |

NGO full form
NGO full form

NGO क्या होता है ?

NGO एक ऐसे संस्था है जो की किसी भी goverment द्वारा संचालित नहीं की जाती है और ना ही खुद के लाभ के लिए यह संस्था होती है सरल भाषा में कहे तो इसका मुख्या कार्य गरीब व असहाय बच्चों की  मदद करना जैसे खाने का सामान ,दवा देना ,कपडे देना ,और  जरूरत की चीज़ो को मुहैया करना होता है ताकि उनकी समस्या का निवारण होता रहे और किसी की मदद करने से जो मन को शांति मिलती है वाह अनुभूति शायद ही कही मिले |

NGO के द्वारा ही पर्यावरण में हो रही समस्या जैसे पेड़ पौधा लगाना , पार्क की सफाई ,और जहा गन्दगी हो वहां की साफ़ सफाई करना और भी समस्याओ को अपने इलाको से दूर करना इनके मुख्या कार्य के रूप में आते हैं |

इन संस्थाओ का गठन कोई भी सामान्य आदमी ,या किसी भी व्यावसायिक या सरकारी संस्थान कर सकते है NGO संस्था को किसी भी स्तर तक किया जा सकता है आप चाहे तो ग्राम स्तर,शहरी स्तर ,राज्य व देश तक किया जा सकता है जो की आपकी इच्छा पर निर्भर करता है |

ngo full form in hindi 

अगर बात करे NGO full form की तो इसका फुल फॉर्म  “Non – Governmental Organization” होता है जिसको हिंदी में “गैर सरकारी संगठन “ कहाँ जाता है | जिसका मतलब ये हुआ की NGO एक ऐसी संस्था है जो किसी भी सरकार द्वारा संचालित नहीं की जाती है | और न ही किसी लाभ के लिए यह संस्था संगठित की गयी होती है |

खुद का NGO कैसे open करे ?

अगर आपकी भी इच्छा है अपने इलाको की समस्या को दूर करने का और लोगों की मदद करने का तो आप भी ngo संस्था की शुरुआत  हैं ,तो चलिए जानते है की किस तरह से open करते है |

अगर आप भी NGO बनाने की सोच रहे है तो आपको इसके लिए कुछ नियम का पालन करना होता है जो कि हर राज्य का अपना अलग नियम होता है NGO open करने के लिए आपके पास 11 सदस्य का होना आवश्यक है और साथ में इनके हस्ताक्षर व मजूरी होनी चाहिए |

और आपको अपने NGO के लिए सभी नियम और उद्देश्य को तैयार कर लेना चाहिए ताकि बाद में कोई दिक्कत न हो | और इन सभी नियमो को अपने 11 सदस्यों को दिखा के हस्ताक्षर ले लेना है | की यह NGO की तरह और किस उद्देश्य पर कार्य करेगी | और सभी के सहमति के बाद NGO Full form तरीके से open हो जायेगा |

NGO कितने प्रकार के होते है ?

  1. CSO नागरिक समाज संगठन
  2.  ENGO environmental NGO
  3. गोगो सरकार द्वारा ऑपरेटेड NGO
  4. GSO निचले स्तर का संगठन
  5. सामुदायिक स्वास्थ्य और ग्रामीण विकास संगठन
  6. Advocary आम का बाजार NGO
  7. टेंगो तकनीकी सहायता ngo
  8. इंगो इंटरनेशनल NGo
  9. बिंगो व्यापर NGO

NGO खोलने के लिए जरूरी document क्या है ?

NGO को खोलने के लिए आपके पास कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट का होना आवश्यक हैं :-

  • ID Proof ( Voter id /Aadhar Card)
  • Residence Proof
  • Registerd Office Address Proof
  • Passport (mandatory)
  • Affidevit From President
  • Article Of Assocation Regulation
  • Rules and regulations
  • Trust Deeds / Memorandom Of Assocation

NGO कैसे काम करता है ?

NGO का काम असहाय लोगो की मदद करना होता है जो की सरकार ,या बड़ी कंपनी से फण्ड इकट्ठा करके मदद करती है तो कुछ इस तरह से NGO अपना कर्तव्य निभाती है और निष्ठावान तरीके से लोगो की मदद करती हैं |

 

NGO संस्था का regestrastion कैसे करे |

NGO संस्था का regestration करने के लिए इंडिया में 3 तरह के process है –

  • Trust Act  -यह एक्ट भारत के सभी राज्यों  में होता है  अगर जिन राज्यों में नहीं है वहां act अधिनियम 1882 के तहत  लागु होता है  जिसमे इस अधिनियम के तहत  2 trustes होना जरूरी है | अगर इस अधिनियम में रजिस्ट्रेशन करना होता है तो  आपको ऑफिस में आवेदन करना होता है  जिसमे आपको deed डॉक्यूमेंट लगाना पड़ेगा | 
  • Sociaty Act – इसके तहत NGO को sociaty के रूप में registerd करते हैं इस एक्ट में regestration करने के लिए rules and regulations डॉक्यूमेंट लगाना पड़ता हैं ,इस डॉक्यूमेंट के लिए 7 सदस्यों की आवश्यकता पड़ती है |
  • Companies Act – इसके तहत regestration करने के लिए memorandum and article of association and regulation डॉक्यूमेंट की जरूरत होती है | इस डॉक्यूमेंट को बनाने के लिए स्टाम्प पेपर की जरूरत नहीं होती है क्युकी इसके लिए कम से कम तीन सदस्यों का होना आवश्यक है |

इन 3 एक्ट के द्वारा आप NGO में रजिस्ट्रेशन कर सकते है ,भारत देश में NGO ने मदद करके भारत की हर विकट समस्या का निवारण किया है ऐसे हीं आप लोग भी NGO  में मदद करते रहे ताकि और लोगो की मदद हो सके |

NGO को फण्ड कहाँ से प्राप्त होता है |

अगर बात करे इसके फण्ड की तो इसको फण्ड उस संसथान के सदस्यों के द्वारा एकत्रित करके किया जाता है जो सदस्य जिस लायक होते है अनुसार मदद करते हैं |

अगर आप भी NGO की शुरुआत करना चाहता है तो आप निम्न तरीको से फण्ड इकठ्ठा कर सकते हैं, –

1 – आप अपने ngo के लिए एक वेबसाइट बना सकते है  जहाँ पर आप ngo के बारे के बारे में बता सकते है और वहां फण्ड इकठ्ठा कर सकते है लेकिन इसके लिए आपको अपने NGO का मुख्य उद्देश्य ,आप क्या क्या करते है ,इन सब चीज़ो के बारे में अपने वेबसाइट पर बता सकते है इससे आपके NGO की एक अलग पहचान बनेगी जिससे लोगो का विश्वास बनेगा और उसके बाद अप्प डोनेशन अकाउंट वह दे सकते है जिससे जो भी डोनेट करना चाहते है वो वह पर कर देंगे |

2 – आप अगर चाहे तो एक प्रोग्राम रख सकते है जहाँ पर अधिक लोग इकठ्ठा हो सके और आपके NGO के बारे में जाने | आप अपने प्रोग्राम में कोई समाज सेवी ,नेता ,डॉक्टर आदि लोग को बुला सकते है एक गेस्ट के रूप में ,और ये लोग NGO में आर्थिक सहायता करेंगे और लोगो को भी बोलेगे जिससे लोग भी आपके ngo की मदद करेंगे |

3 – अगर आप चाहे तो बड़ी बड़ी कमपनी से contact कर सकते हैं क्युकी बहुत सी कंपनी समाजसेवा के कार्य को पूरा करने के लिए NGO की मदद करती हैं आपको उस कंपनी को मेल करके डोनेशन के लिए बोलना पड़ेगा | तो कुछ इस तरीके से मदद ले सकते है |

4 – यदि आप चाहे तो रेजिस्टर्ड NGO चला सकते है जिससे आप सरकार से आर्थिक सहायता ले सकते है इसके लिए आपको सरकार के कुछ नियम का पालन करना होगा | जिसके बाद सरकार आपके NGO की मदद करेगी |

NGO का उद्देश्य

  • वृद्ध व बूढ़े लोगो की सहायता
  • स्कूल में बच्चो अच्छी शिक्षा और भोजन
  • अपने आस पास के इलाको की समस्या का निवारण
  • स्कूली बच्चो को किताबे मुहैया करना
  • गरीब अनाथ बच्चो की देख रेख और शिक्षा देना
  • समाज में किसी तरह की बीमारी से जूझ रहे मरीज़ो को मदद करना
  • गरीबो को निवास देना
  • अपने पर्यावरण में पेड़ पौधा लगाना जैसे बहुत से उद्देश होते है |

NGO में कौन कौन से पद होते हैं ?

अगर बात करे NGO में पद की तो इसमें भी निम्न पद होते है जैसे एक अध्यक्ष ,कोषाध्यक्ष ,उपाध्यक्ष ,सचिव ,सलाहकार ,सदस्य  जैसे पद होते है | और यही लोग इस संस्था को सँभालते है |

क्या सरकारी कर्मचारी NGO चला सकता हैं ?

जी हाँ क्यों चाहे वाह सरकारी कर्मचारी हो या प्राइवेट या कोई सामान्य नागरिक वह ngo को चला सकता है क्युकी NGO में 11 सदस्य होते है जो की अपनी अनुसार उस संस्था में मदद करते है ताकि लोगो की मदद होती है | जिसमे कुछ लोग पैसे से मदद तो कुछ लोग शारीरिक मदद और खून दान करके भी मदद करते रहते है | तो उम्मीद करते है आप समझ गए होंगे NGO के बारे में और इसका NGO full form क्या होता है |

Conclusion 

तो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हमने आपको बताया की NGO क्या है यह काम कैसे करता है व ngo full form क्या होता है और आप अपना खुद  ngo खोल सकते है इन सब चीज़ो के बारे में आपसे चर्चा की है और आपको सारी देने की कोसिस की है जो की आपको पसंद  आयी होगी अगर जानकारी पसंद आयी तो दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे | धन्यवाद |

BDO क्या है इसका फुल फॉर्म क्या होता है ?

Leave a Comment